subhasyuvamorcha.org, will be Live Soon.

Contact Team Navpravartak for Updates.

सुभाष युवा मोर्चा - सेस को तत्कालीन प्रभाव से वापस लेने हेतु लेबर कमीशन को सौंपा ज्ञापन

सेस को तत्काल प्रभाव से हटाने की मांग करते हुए आम जन समिति के तत्वावधान में धरना प्रदर्शन करते हुए पीले क्वार्टर, लोहिया नगर, गाजियाबाद में लेबर कमीशन को ज्ञापन सौंपा गया. आम जन समिति ने ज्ञापन देने के बाद निर्णय लिया कि सेस वापस ना होने की स्थिति में गाजियाबाद के जनप्रतिनिधियों, विधायकों एवं सांसदों का घेराव करके इस नाजायज सेस को वापस लेने की मांग की जाएगी.

सुभाष युवा मोर्चा के संयोजक सतेन्द्र यादव ने बताया,

“इस 1 प्रतिशत सेस को तुरन्त प्रभाव से हटाया जाये अन्यथा जनता इसका जवाब देगी.”

देहात मोर्चा के राष्ट्रीय संयोजक बाबू सिंह आर्य ने कहा,

“ग्रामीण/अनियमित व अविकसित शहरी क्षेत्रों में उपकर निर्धारण प्रक्रिया पर तुरन्त रोक लगाई जाए ताकि ग्रामीण/गरीबों के बीच भय का माहौल न पनपे. यदि ऐसे क्षेत्रों में उपकर निर्धारण व वसूली की प्रक्रिया मनमाने व अन्यायपूर्ण तरीके से जारी रहती है तो व्यापक जन आन्दोलन किया जायेगा.”

आम जन मंच के प्रवक्ता पंडित अशोक भारतीय ने स्पष्ट करते हुए बताया,   

“यह एक प्रतिशत सेस पूरी तरह से नाजायज है, इसे यदि नहीं हटाया गया तो गाज़ियाबाद में संबंधित अधिकारियों का घेराव किया जाएगा और उनसे सेस हटाने की मांग की जाएगी.”

धरने के अंतर्गत मुख्य रूप से सुभाषवादी भारतीय समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष (सुभास पार्टी), सुरेंद्र कुमार मुन्नी (पूर्व विधायक), वन्दना चैधरी, अजय चौधरी प्रमुख, महिपाल सिंह कसाना प्रमुख, अमित कुमार वर्मा, आर.सी. शर्मा, मजदूर नेता वीरेन्द्र सिरोही, मास्टर सुखबीर सिंह, विजय सिंह रिस्तल, मास्टर मंतराम नागर, बी.डी.ओ. सुखपाल सिंह तोमर, शिवकुमार प्रधान, सुखबीर सिंह चौधरी, योगेंद्र सिंह, बृजपाल सिंह, धर्मेंद्र, श्रीचंद हवलदार, नसीमुद्दीन, मतलूब अहमद, रमा गुप्ता, वीरेंद्र कंडेरे, सौरव यादव, विनय खारी, आरसी शर्मा, अखिल यादव, बबली प्रधान, नितिन नागर सहित बहुत से अन्य कार्यकर्ता सम्मिलित रहे.

शामिल कार्यकर्ताओं में बड़ी संख्या में महिलाएं भी मौजूद रही तथा सभी उपस्थित मान्यगणों ने संबोधन देते हुए सेस को तत्काल प्रभाव से हटाने की मांग रखी. 

क्या यह आपके लिए प्रासंगिक है? मेसेज छोड़ें.