सुभाष युवा मोर्चा - सुभाषवादी भारतीय समाजवादी पार्टी द्वारा शहीदों की वीरगाथाओं व बलिदान को लोगों तक पहुँचाने का प्रयास

    देश के क्रांतिकारियों के त्याग व संघर्ष से लोगों को परिचित कराने व नागरिकों में देशभक्ति की भावना जगाने के उद्देश्य से ‘सुभाष युवा मोर्चा’ व सुभास पार्टी शहीदों के जन्मदिवस पर विभिन्न कार्यक्रमों का तथा उनके बलिदान दिवस पर शहादत सभा का आयोजन करती है, जिनके द्वारा शहीदों की वीरगाथाओं व बलिदान को लोगों को याद दिलाने का प्रयास किया जाता है. इस तरह के कार्यक्रमों का आयोजन पार्टी के कार्यालय सुभाषिनी ऑफसेट, जगदीशपुर, गाजियाबाद में तो किया ही जाता है साथ ही कई और जगहों पर भी इन देशभक्तों के लिए कार्यक्रम आयोजित किये जाते हैं. हाल ही में 23 मार्च 2018 को शहीद भगत सिंह, शहीद सुखदेव व शहीद राजगुरु को श्रृद्धांजलि देने के लिए एक सभा का आयोजन किया गया. जिसमें शहीदों को ठीक 7 बजकर 33 मिनट पर माल्यार्पण करके श्रृद्धांजलि दी गयी, क्यों कि इसी समय पर 23 मार्च 1931 को तीनों शहीदों को फाँसी दी गयी थी.

    यह बस एक प्रयास है ‘सुभाष युवा मोर्चा’ व 'सुभास पार्टी' का कि आज जो हम खुद को आजाद बताते हैं और अपने अधिकारों को लेकर धरना, आंदोलन और आवाज़ उठाते हैं यह इन्हीं जैसे शहीदों की ही देन है. आज के युवा हमारे उन पूर्वजों को याद रखें जिन्होंने अपनी आने वाली पीढ़ी को स्वछंद गगन में सांस लेने देने के लिए अपने प्राणों की आहुति तक दे दी.

    “इस अवसर पर सुभाषवादी भारतीय समाजवादी पार्टी के संयोजक सतेन्द्र यादव ने कहा, कि भारत- माता के स्वतंत्रता के लिए फाँसी का फंदा चूमने वाले हमारे शहीदों ने एक ऐसे भारत की कल्पना की थी, जिसमें सभी देशवासियों को बराबर का अधिकार मिले, भेदभाव रहित समाज की स्थापना हो, सभी को एक समान शिक्षा मिले, धार्मिक भेदभाव को जगह न हो, अत्याचारी शासन व्यवस्था न हो, लेकिन अभी तक हम शहीदों के सपनों का भारत नहीं बना पायें हैं. शहीदों के सपनों का भारत बनाने के उद्देश्य से ही ‘सुभाष युवा मोर्चा’ ने राजनीतिक दल ‘सुभास पार्टी’ की स्थापना की है.”

कमेंट या फीडबैक छोड़ें